How To Increase Positive Thinking In Hindi

How To Increase Positive Thinking In Hindi

दोस्तों कैसे हो आज हम बात करेंगे की कैसे आप अपनी सोच को पॉजिटिव करे या अपनी सोच को सकारात्मक (Positive Thinking) कैसे बनाये । दोस्तों ज़िन्दगी में कभी न कभी आप के मन में नकारात्मक विचारो (Negative Thinking) ने जन्म लिया होगा । ऐसा होना संभव है, चाहे नकारात्मक सोच किसी काम के प्रति हो, पैसो के प्रति हो, किसी और व्यक्ति के प्रति हो या किसी और के प्रति हो । नकारात्मक सोच से हमेशा ही एक गुस्सा  सा बना रहता है की हम उस काम को क्यों नहीं कर पा रहे है जबकि दूसरे लोग उस काम को कितना अच्छा कर रहे है या हम क्यों नहीं पैसो को कमा पा रहे है जबकि दूसरे हम से आगे बढ़ गए है और हम से अच्छा पैसा काम भी रहे है और नाम भी ।

How To Increase Positive Thinking In Hindi

दोस्तों ये सोच या इस के जैसी कोई भी सोच जब  किसी के भी दिमाग में आती है तो उस व्यक्ति का स्वभाव में चिड़चिड़ापन आ जाता है । दोस्तों आप को ये तो पता ही होगा की विचारो की एक फ्रकएनसी होती है, जैसे जैसे विचार आने लगता है उसी समय हमारे दिमाग में तरंगो का प्रभाव बढ़ जाता है । फिर चाहे विचार सकारात्मक हो या नकारात्मक हम किसी भी एक परिस्थिति में आ जाते है ।  सकारात्मक विचार होंगे तो अच्छी सोच होगी की में ये कर लूंगा या लुंगी । या इस काम को में ऐसा कर सकता हु या सकती हु आदि ।

लेकिन अगर नकारात्मक विचार आ गया तो फिर वैसा ही होता है जो हम पहले भी बता चुके है ।

नाकारकत्मक सोच या विचार आप को अवनीति की और ले कर जाता है, यानि की अगर आप के दिमाग में एक बार भी किसी के प्रति नकारात्मक सोच या विचार आ गया तो फिर आप चाह कर भी फिर उस विचार या सोच को सकारात्मक नहीं कर सकते । जब तक की आप फिर से उसके बारे में कुछ भी अच्छा नहीं सोचते तब तक आप के मन में ये बात हमेशा ही रहेगी ।

नकारात्मक विचार या सोच होने के कुछ कारण –

* ज्यादा टेंशन लेना

* ज्यादा गुस्सा करना

* किसी की भी बात को न सुनना

* हमेशा अपनी ही बातो को आगे रखना

* छोटी सोच का होना

* बुरे दोस्तों की संगती का होना

* लड़ाई झगडे  वाली फिल्मो को ज्यादा देखना

* गलत दिशा में चलना

दोस्तों ये कुछ कारण है जो नकारात्मक सोच या विचार को जन्म देती है । अगर में कहु की इस पोस्ट में आप ने जो भी पढ़ा है उस से आप की सोच एक दम से बदल गयी है तो आप का उत्तर ये होगा की ऐसा नहीं है तो इस का मतलब ये होता है की आप ने अभी तक इस पोस्ट को पढ़ कर एक सोच बना ली है या आप ने इस साइट के प्रति एक विचार बना लिया है,  की  इस साइट में अच्छी और रियल जानकारी दी जाती है और आप इस साइट में रोज़ कुछ न कुछ नया पाते हो । तो ये एक सकारत्मक सोच होगी इस साइट के प्रति ।जो की मेरे लिए एक अच्छी बात होगी की मेरी इस साइट से आप को बहुत ही लाभ मिल रहा है ।

दोस्तों अभी तक हमने नकतरामक सोच के बारे में पढ़ा और समझा है की ये कैसे होता है और कैसे हो जाता है ।

अब हम बात करेंगे की कैसे अपनी सोच को सकारात्मक बनाये जिस से सफलता आप के कदम को चूमे । दोस्तों कभी भी कुछ करते हुए एक दम से नकारात्मक सोच आ जाती है इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता है लेकिन अगर आप उस सोच को ही न सोचे तो क्या फिर वो सोच आएगी, नहीं ना ।

एक उदाहरण लेते है मान लेते है की आप कुछ काम कर रहे हो काम करते हुए आप को एक घंटा हो चूका है अब आप को थोड़ा आराम की जरुरत है, इस बीच आप अपने फ़ोन को देखते है और आप को अचानक से कोई बात याद आ जाती है जो उस काम और आप के लिए ठीक नहीं है फिर क्या अब आप का ध्यान काम से हट कर दूसरी और चला जायेगा और वो ही बार बार याद भी आएगा । तो इस समय उस विचार को जन्म दिया फ़ोन ने । अब  इस सोच को कैसे सकारात्मक करे मान लेते है की ये सब हो चूका है अब आप को थोड़ा कही घूमना चाइए  आप अपने रेस्ट को थोड़ा सा बड़ा भी सकते है । उस फ़ोन से जो बात बिड़गी थी घर में फ़ोन करके हालात को जान सकते है और थोड़ा रिलेक्स हो सकते है । आप चाहे तो थोड़ा सा म्यूजिक यानी की गाने भी सुन सकते है जिस से आप का माइंड यानि दिमाग फिर से उसी काम को करने के लिए तैयार हो जाये ।

ये तो काम के प्रति सकारात्मक सोच है लेकिन आप जब भी सुबह उठे और आप ऐसा कहे तो आप अपनी सोच को काफी हद तक अच्छा कर सकते है, आप को ये कहना होगा-

* आज मेरा दिन है

* में आज जो भी करूँगा उसी में अपना ध्यान लगाऊंगा ।

* आज में अपनी सोच को पुरे दिन सकारत्मक रखूंगा ।

* आज में ऑफिस जल्दी जाऊंगा और अपने काम को जल्दी से ख़तम भी करूँगा ।

* आज में अपने समय को इस तरह से बताऊंगा ( आप कोई भी समय अपने हिसाब से बाट सकते है ) ।

दोस्तों अपनी सोच को सकारात्मक रखने के लिए आप को ये भूलना होगा की जब भी आप अपना कोई भी काम करे  उस समय आप के दिमाग में नकारात्मक विचार आते है, अगर आप ऐसा कर पाते है तो आप अपनी सोच को काफी हद तक अच्छा और सकारात्मक बना सकते है ।

फ्रेंड्स आप को ये आर्टिकल कैसे लगा हमे कमेंट करके जरूर बताना, अगर आप को ये आर्टिकल अच्छा लगा हो तो इस आर्टिकल को अपने फ्रेंड्स के साथ सोशल मीडिया में शेयर जरूर करना ! अगर आप ने हमारी वेबसाइट को अभी तक सब्सक्राइब नहीं किया है तो अभी सब्सक्राइब करे !

 

Leave a Reply